Feeds:
Posts
Comments

Archive for the ‘गोरख कविता’ Category

>सुनना मेरी भी दास्तां, अब तो जिगर के पास हो,
तेरे लिए मैं क्या करूं, तुम भी तो इतने उदास हो.

कहते हैं रहिए खमोश ही, चैन से जीना सीखिए
चाहे शहर हो जल रहा, चाहे बगल में लाश हो।

खूं का पसीना हम करें, वो फिर जमायें महफिलें,
उनके लिए तो जाम हो, हमको तड़पती प्यास हो।

जंग के सामां बढ़ाइये, खूब कबूतर उड़ाइये,
पंखों से मौत बरसेगी, लहरेगी जलती घास हो।

हाथों से जितने जुदा रहें, उतने ख्याल ठीक हैं,
वरना बदलना चाहोगे, मंजर ये बदहवास हो।

धरती समंदर आसमां राहें, जिधर चले, खुली
गम भी मिटाने की राह है, सचमुच अगर तलाश हो।

है कम नहीं खराबियां, फिर भी सनम दुआ करो,
मरने की तुम पे चाह हो, जीने की सबकी आस हो।
– गोरख पांडे

Read Full Post »