Feeds:
Posts
Comments

Archive for the ‘चे गुएरा’ Category

> पिछले दिनों एक चैनल पर विनोद दुआ पुरी की सैर करा रहे थे. रिमोट वहीं रुक गया. पुरी घूमने के लिए नहीं, न ही विनोद दुआ के कारण बल्कि उस बैग के कारण जो विनोद जी के हाथ में था. वह एक मामूली शॉपिंग बैग था. उस मामूली से शॉपिंग बैग पर चे की तस्वीर बनी थी. चे यानी चे ग्वेरा. चे ग्वेरा यानी युवा सोच का चेहरा. विनोद दुआ भी उस शॉपिंग स्टोर में चे ग्वेरा के कारण ही रुके थे. उन्होंने भरे उत्साह से दुकान वाले से पूछा कि ये किसकी तस्वीर है? दुकान वाले ने बताया चे गुवेरा. यह चे की पॉपुलैरिटी है. चे फैशन स्टेटमेंट भर नहीं हैं कि बाइक पर उनकी तस्वीर चस्पा करना, उनकी टी-शर्ट पहनना, कैप लगाना भर काफी हो. वे एक विचार हैं, एक लाइफस्टाइल हैं. वे यूथ आइकॉन हैं. चे यानी युवा, ऊर्जा, नई सोच, तूफानों से टकरा जाने का माद्दा, पहाड़ों का सीना चीर देने का हौसला, आसमान को अपनी मुट्ठी में समेट लेने का जज़्बा और अपनी जान से किसी खिलौने की तरह खेलने की बेफिक्री।

चे ग्वेरा ऐसा युवा चेहरा है जिसका नाम भर रगों में सनसनी भर देता है. कॉलेजों, यूनिवर्सिटियों के कैम्पस चे ग्वेरा के संदेशों से यूं नहीं पटी पड़ी हैं. भले ही कुछ लोग उनके बारे में ज्यादा जानकारी न रखते हों लेकिन अधिकांश युवा चे को अपना आइडियल मानते ही हैं. बावजूद इसके कि वे जानते हैं कि चे होने के जोखि़म भी कम नहीं हैं. क्या था इस युवक में कि यह युवक अपनी मौत के कई सालों बाद भी अतीत नहीं भविष्य के रूप में देखा जाता है. उसका वह ठोस सपाट चेहरा, चौड़ा माथा, और ढेरों सपनों से भरी आंखें. उन आंखों के वही सपने हमारे सपने हैं. युवा पीढ़ी के सपने. 39 वर्ष की उम्र में क्यूबा की क्रांति का यह महान नायक साम्राज्यवादियों का शिकार हुआ और 9 अक्टूबर 1967 को. लेकिन मारने वालों को कहां पता था कि ऐसे लोगों को मारना आसान नहीं होता. वे देह को मार सकते थे सो मार दिया लेकिन चे एक विचार था, एक तरीका था जीने का जो पूरी दुनिया में बिखर गया. कुछ इस कदर कि युवा का अर्थ ही चे होना मान लिया जाने लगा।

विद्वानों का कहना है कि चे शब्द अर्जेंटाइना वालों ने गौरानी इंडियनों से सीखा है, जिसका तात्पर्य होता है, मेरा. लेकिन पांपास के निवासी चे शब्द का उपयोग संपूर्ण मानवीय भावनाओं-मसलन आश्चर्य, प्रमोद, दुख, कोमलता, स्वीकृति और प्रतिरोध को व्यक्त करने के लिए लय और संदर्भ के अनुसार कर सकते हैं. इस विस्मयकारी शब्द से इतना स्नेह होने के कारण ही क्यूबा के विद्रोहियों ने डॉन अर्नेस्टो के बेटे अर्नेस्टो ग्वेरा को चे का उपनाम दिया जो युद्ध के दौरान उसका छद्म नाम बन गया और उनके नाम के साथ पक्के तौर से जुड़ गया. क्यूबा और पूरी दुनिया में वह अर्नेस्टो चे ग्वेरा के नाम से प्रसिद्ध हुए. क्रांति के नायक के जीवन में प्रेम जैसी नाजुक भावना ने भी अलग ही अंदा$ज में दस्तक दी।

चे को चिनचीना नामक लड़की से अगाध प्रेम था. चिनचीना बेहद खूबसूरत और नाजुक लड़की थी. वह सभ्य, सुसंस्कृत सामंती परवरिश में पली थी. जबकि चे को हमेशा अपने पुराने फटे कोट और खस्ताहाल जूतों से रश्क रहा. उसने एक दिन चिनचीना से कहा कि वह अपने पिता का घर छोड़ दे, धन-दौलत के बारे में भूल जाए और उसके साथ वेनेजुएला चले, जहां वह अपने मित्र अल्बर्टो ग्रैनडास के साथ कोढिय़ों की बस्ती में रहकर उनकी सेवा करेगा. चिनचीना एक सामान्य लड़की थी और उसका प्यार भी सामान्य ही था. वह इस प्रस्ताव को मान नहीं सकी।

चे को कविताओं से बहुत प्यार था. वह बादलेयर, गार्सिया लोर्का और एंतोनियो मचाडो की कृतियों का अच्छा जानकार था. पाब्लो नेरूदा की कविताओं से बेपनाह मोहब्बत थी. उसे पाब्लो की बहुत सारी कविताएं जबानी याद थीं. उसने खुद भी कविता लिखने की कोशश की लेकिन माना खुद को असफल कवि ही. चे का छोटा सा जीवन बेहद रोमांचक था. हर युवा दिल के साथ चे के विचार भी धड़क रहे हैं. यही होता है सचमुच जीना. चे को सलाम!
प्रतिभा कटियार

Advertisements

Read Full Post »