Feeds:
Posts
Comments

Archive for the ‘ब्लॉग का जन्मदिन’ Category

> किसी रोज बातों-बातों में यूं ही कहा था कि काश कोई ऐसी दुनिया होती जहां सुंदर कविताएं, संगीत, प्यारी बातें, सारे मौसम, पूर्णमाशियां सारी, समंदर, पंक्षी, ढेर सारी आजादी और वो सब कुछ हो जो मुझे पसंद हो. जहां कोई नियम नहीं, कोई रोक-टोक नहीं. क्या होता भला उस दुनिया का नाम बूझो तो?
प्रतिभा की दुनिया और क्या. वह छोटा सा संवाद ब्लॉग बन गया. कुछ दोस्तों ने एक सुंदर सा ब्लॉग प्रतिभा दुनिया के नाम से बनाकर तोहफे में दिया. इस तरह प्रतिभा की दुनिया बन गई. फिर सवाल कि इस दुनिया में हो क्या? क्योंकि इस पर कोई योजनाबद्ध ढंग से काम तो हुआ नहीं था. और क्यों भला मैं अपनी दुनिया सार्वजनिक करूं. क्यों बताऊं लोगों कि मुझे फलां कविता बहुत प्रिय है. मैं बता भी दूं तो भला कोई क्यों सुने मुझे. इन्हीं सब उहापोह के बीच यह सफर शुरू हुआ. लेकिन दोस्तों ने ब्लॉग बनाने तक ही साथ नहीं निभाया लिखवा लेने का भी जिम्मा उठाया. जिस दिन पोस्ट न डालूं फोन आ जाते, मेल आने लगतीं कुछ तो लिखिये. साथियों ने हौसला दिया तो वरिष्ठजनों ने रास्ता दिखाया, बताया कि यह तुम्हारी दुनिया है इसके प्रति उदासीनता ठीक नहीं है. धीरे-धीरे ब्लॉग की दुनिया के नये दोस्त भी उत्साहवद्र्धन में शामिल होने लगे. हैरत होती मुझे कि किसी के लिखे का कोई इंत$जार भी कर सकता है. मुझे अपने लिखे को लेकर कोई मुगालता, कभी नहीं रहा. मुझे खुद पर यकीन रहा हो, न रहा हो लेकिन दोस्तों ने, गुरुजनों ने यह यकीन कभी नहीं छोड़ा. उनका यकीन ही मेरा लेखन है. आज मुड़कर देखती हूं तो पाती हूं कि पूरे एक साल से यह दुनिया बाकायदा आबाद है. कोई आंधी नहीं, कोई तूफान नहीं, कोई रुकावट नहीं. ढेर सारे साथी फॉलोअर्स के रूप में जुड़े हैं और टिप्पणीकर्ताओं के रूप में भी. आज प्रतिभा की दुनिया के जन्मदिन के मौके पर उन सबके प्रति आभार जिन्होंने हर मौके पर मेरा उत्साह बढ़ाया, लिखने के सिलसिले को रुकने नहीं दिया और मुझमें विश्वास बनाये रखा. उनका यह विश्वास ही मेरी ताकत है.

Read Full Post »